m-150x150

yugnirman.org

ब्लॉग आर्काइव

Donate blood save lives

blood

Our visiters

  • 5032Total visitors:
  • 24Visitors today:
  • 0Visitors currently online:

Pt. Shriram Sharma Acharya

motivation

मन का स्वभाव है कि…  वह किसी बात पर अधिक समय स्थिर नहीं रहता और उचटकर बार-बार इधर-उधर उड़ता है । आप किसी बात को सोचना चाहते हैं, किंतु मन उस पर नहीं जमता । ऐसी दशा में उस चिंतनीय विषय का कोई ठीक-ठीक निर्णय नहीं हो सकेगा । इस प्रकार की स्थिति उत्पन्न होने पर उत्तम मस्तिष्क वाले भी उतना काम नहीं कर सकते जितना कि साधारण मस्तिष्क के किंतु स्थिर चित्त वाले कर सकते हैं । कोई मनुष्य कितना ही चतुर क्यों न हो, यदि उसके मन को उचटने की आदत है और इच्छित विषय में एकाग्र नहीं होता, तो उसकी चतुरता किसी काम न आवेगी और उसके निर्णय अपूर्ण एवं असंतोषजनक होंगे ।

-पं. श्रीराम शर्मा आचार्य

Mental Stability

It is the nature of mind that it does not stay on one topic for a long time and keeps wandering off aimlessly.

This restless tendency gets in the way of critical thinking and is a huge obstacle in the way of thoughtful, well reasoned decision making.

A brilliant and highly distracted mind performs poorly compared to an average yet calm mind.

No matter how smart we are, if our minds wander and are continuously distracted, our intelligence will be of little use and our decisions will be incomplete and unsatisfactory.
-Pt. Shriram Sharma Acharya
PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest