m-150x150

yugnirman.org

ब्लॉग आर्काइव

Donate blood save lives

blood

Our visiters

  • 3774Total visitors:
  • 6Visitors today:
  • 0Visitors currently online:

Uncategorized







1. To give blood you need neither extra strength nor extra food.

2. It’s a joy to give Blood.

3. A life may depend on a gesture from you. a bottle of Blood.

4. Your friends, neighbours and colleagues can become Blood Donors: recruit them and send us their names and addresses on a post-card.

Lovely Thoughts for Lovely People Just Like You
Thanks For Believing In Life and Me……..




http://www.blogger.com/follow-blog.g?blogID=1590498127516132903 आप भी युग निर्माण योजना में सहभागी बने।
PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest
पैसा या धन के महत्व को देखते हुए शास्त्रों में कई नियम बताए गए हैं। इन नियमों का पालन करने पर हर व्यक्ति का जीवन सुखी और शांति प्राप्त होती है। पैसों के संबंध में आचार्य चाणक्य ने एक महत्वपूर्ण बात बताई है कि-

उपार्जितानां वित्तानां त्याग एव हि रक्षणाम्।

तडागोदरसंस्थानां परीस्रव इवाम्भसाम्।।

इस संस्कृत श्लोक का अर्थ है कि हमारे द्वारा कमाए गए धन का उपभोग करना या व्यय करना ही धन की रक्षा के समान है। इसी प्रकार किसी तालाब या बर्तन में भरा हुआ उपयोग न किया जाए तो सड़ जाता है।

आचार्य चाणक्य कहते हैं कि व्यक्ति धन या पैसा कमाता है तो उसका सदुपयोग करना चाहिए। काफी लोग धन को अत्यधिक संग्रहित करके रखते हैं, उसका उपयोग नहीं करते हैं। आवश्यकता से अधिक धन का संग्रहण अनुचित है। इसलिए धन का दान करना चाहिए। सही कार्यों में धन को निवेश करना चाहिए। यही धन की रक्षा के समान है। यदि कोई व्यक्ति दिन-रात मेहनत करके पैसा कमाता है और उसका उपभोग नहीं करता है तो ऐसे पैसों का लाभ क्या है। हमेशा पैसों का सदुपयोग करते रहना चाहिए। इसी प्रकार किसी तालाब में भरा जल उपयोग न किया जाए तो वह सड़ जाता है। ऐसे पानी को बचाने के लिए जरूरी है कि उसका उपयोग किया जाए। यही बात धन पर भी लागू होती है। 

http://www.blogger.com/follow-blog.g?blogID=1590498127516132903 आप भी युग निर्माण योजना में सहभागी बने।
PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest
Aims & Objectives: 
• Rise of divinity in man, descent of heaven on earth 
• Individual, familial and social upliftment 
• Healthy body, pure mind and civilized society 
• Atmavat sarvabhooteshu (all living beings are soulkins), Vashudhaiv kutumbkam (Entire earth is the our family) 
• One nation, one language, one religion, one government 
• Everyone should get equal opportunity for self-growth irrespective of caste, color or creed 

Declaration and initiation of the Yojana (Plan) by: 
• Yug-rishi (Seer-sage of present era), Vedmurty (Assimilator of the knowledge of Vedas), Taponishtha (Ascetic) Pandit Sriram Sharma Acharya (embodiment of PrakharPragya ) 
• Vandaniya Mata (Revered Mother) Bhagwati Devi Sharma, consort and soul-mate of Acharyasri (embodiment of Sajal Shraddha) 

Three Pillars of Strength: 
• Will and Patronage of Almighty 
• Spiritual Guidance of Rishis (Seers) 
• Active Participation of enlightened masses 

Two Rules for Self-refinement: 
• Noble deeds flow out of noble thoughts 
• Simple living- High thinking 

Basic Programs: 
• Moral, intellectual and social transformation 
• Public education through various media, using the religious platform 
• Dissemination of Gayatri (collective wisdom) and Yagya (cooperative virtuous demeanor) 

Our Declaration: 
• Self–transformation will lead to the transformation of society; self-refinement will lead to global refinement 
• Twenty-first Century- Heralds advent of Golden age 
• Love humanity – Serve humanity 

Our Emblem: 
• Red Torch – Powerful collective effort for Era-transformation 

Our Manifesto: 
• 18 pledges for individual and collective refinement 

Our Firm Beliefs: 
• Man is the maker of his own destiny. 
• A man is what he thinks and does. 
• Man and woman are not opponents; they complement each other. 





http://www.blogger.com/follow-blog.g?blogID=1590498127516132903 आप भी युग निर्माण योजना में सहभागी बने।
PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest
एक बार एक सेठ जी स्वंय महामना मालवीय जी के पास अपने एक प्रीतिभोज में सम्मिलित होने का निमंत्रण देने के लिए पहुँचे। महामना जी ने उनके इस निमंत्रण को इन विनम्र किंतु मर्मस्पर्शी शब्दों में अस्वीकार कर दिया-‘‘यह आपकी कृपा है, जो मुझ अकिंचन के पास स्वयं निमंत्रण देने पधारें, किंतु जब तक मेरे इस देश में मेरे हजारों-लाखों भाई आधे पेट रहकर दिन काट रहे हों तो मैं विविध व्यंजनों से परिपूर्ण बड़े-बड़े भोजों मे कैसे सम्मिलित हो सकता हूँ- ये सुस्वादु पदार्थ मेरे गले कैसे उतर सकते हैं।’’

महामना जी की यह मर्मयुक्त बात सुन सेठ जी इतने प्रभावित हुए कि उन्होंने प्रीतिभोज में व्यय होने वाला सारा धन गरीबों के कल्याण हेतु दान दे दिया। बाद में उनका हृदय इस सत्कार्य से आनन्दमग्न हो उठा। 

अन्य लोगों के कष्टपीडि़त और अभावग्रस्त रहते स्वयं मौज-मस्ती में रहना मानवीय अपराध हैं। 

PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest
It is fair to say that if we had behaved badly or done something unfair to someone, we cannot just ignore it as if it never happened. It may be possible that the person who was mistreated has gone away and may not be accessible or traceable any more. In such a situation, it may not be possible to make up for what we had done to him/her. However, there is another way to accomplish it. Every person is a part of society. Hence, damage or harm caused to any individual is, in reality, damage caused to society. We can compensate damage we caused to that individual by doing as much good to society. When the amount of good done to society makes up for the amount of harm done to the individual, it can be safely said that we have atoned for the wrongdoing and have come to a point where we can free us from any sense of guilt. 

It is absolutely impossible to set us free from any wrongdoing by means of observing some cheap religious rituals. Reading sacred texts and good thoughts, satasanga (staying in touch with people of great character), listening to discourses and devotional songs, going on pilgrimage, fasting, etc. help us to purify our mind and also enlighten us to restrain, from now on, our tendency to commit anything wrong. The scriptures speak about religious rites and observances having a grand ability to cleanse us from our sins. They only mean to say that the cleansing of the mind (achieved through such observances) may negate any possibility of that individual committing sinful acts in future. 

The inescapable justice system of God directs that anyone who wishes to absolve them from the consequences of their wrongdoing should devote themselves to selfless services to the community that can boost up its goodness or merits. This can help anyone to cleanse him/herself from any past wrongdoings and thus, imparts peace and freedom from guilt and unworthy intentions. 

-Pt. Shriram Sharma Acharya
Translated from – Pandit Shriram Sharma Acharya’s work
YUG NIRMAN YOJANA – DARSHAN, SWAROOP AND KARYAKRAM – 66 (6.18)

PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest
PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest

(होठों पे सच्चाई रहती है 
जहाँ दिल में सफ़ाई रहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है ) \- २

(मेहमां जो हमारा होता है
वो जान से प्यारा होता है ) \- २
ज़्यादा की नहीं लालच हमको
थोड़े मे गुज़ारा होता है \- २
बच्चों के लिये जो धरती माँ
सदियों से सभी कुछ सहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है

(कुछ लोग जो ज़्यादा जानते हैं
इन्सान को कम पहचानते हैं ) \- २
ये पूरब है पूरबवाले
हर जान की कीमत जानते हैं \- २
मिल जुल के रहो और प्यार करो
एक चीज़ यही जो रहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है

(जो जिससे मिला सिखा हमने
गैरों को भी अपनाया हमने ) \- २
मतलब के लिये अन्धे होकर
रोटी को नही पूजा हमने \- २
अब हम तो क्या सारी दुनिया
सारी दुनिया से कहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है

होठों पे सच्चाई रहती है
जहां दिल में सफ़ाई रहती है
हम उस देश के वासी हैं, हम उस देश के वासी हैं
जिस देश में गंगा बहती है

PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest
PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest
PLEASE SHARE THIS POSTShare on FacebookTweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+Pin on Pinterest