m-150x150

yugnirman.org

ब्लॉग आर्काइव
Donate blood save lives
blood
Our visiters
  • 4387Total visitors:
  • 0Visitors today:
  • 0Visitors currently online:
ईश्वर और परलोक आदि के मानने की बात मुँह से न कहिये । जीवन से न कहकर मुँह से कहना अपने को और दुनिया को धोखा देना है । हममें से अधिकांश ऐसे धोखेबाज ही हैं । इसलिये हम कहा करते है कि हजार में नौ-सौ निन्यानवे व्यक्ति ईश्वर को नहीं मानते । मानते होते तो जगत में पाप दिखाई न देता ।

अगर हम ईश्वर को मानते तो क्या अँधेरे में पाप करते ? समाज या सरकार की आँखों में धूल झोंकते ? उस समय क्या यह न मानते कि ईश्वर की आँखों में धूल नहीं झोंकी गई ? हममें से कितने आदमी ऐसे हैं जो दूसरों को धोखा देते समय यह याद रखते हों कि ईश्वर की आँखें सब देख रही हैं ? अगर हमारे जीवन में यह बात नहीं है, तो ईश्वर की दुहाई देकर दूसरों से झगड़ना हमें शोभा नहीं देता ।

धर्म तत्त्व का दर्शन एवं मर्म (53)-2.70″
-पं. श्रीराम शर्मा आचार्य 
PLEASE SHARE THIS POSTShare on Facebook1Tweet about this on TwitterEmail this to someoneShare on Google+0Pin on Pinterest0

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *